वेबसाइट आपातकालीन प्रबंधन नीति

Last Updated On: 15/04/2019

इंटरनेट पर वेबसाइट की उपस्थिति और बहुत महत्वपूर्ण साइट हर समय पूरी तरह कार्यात्मक हो। सरकार वेबसाइटों से 24ग्7 आधार पर जानकारी और सेवाएं प्रदान करने की उम्मीद की जाती है। इसलिए, सभी प्रयास जहां तक संभव हो वेबसाइट के डाउनटाइम को कम करने के लिए किए जाने चाहिए।

यह आवश्यक है कि उचित आपात योजना किसी भी हालात से निपटने के लिए तैयार की जानी चाहिए और कम से कम संभव समय में साइट को बहाल किया जाना चाहिए। संभावित आपातकालीन स्थितियों में शामिल हैः

वेबसाइट के विकरणः  असामाजिक तत्वों द्वारा किसी भी संभावित विकरण/हैकिंग को रोकने के लिए सभी संभव सुरक्षा उपाय वेबसाइट के लिए किए जाने चाहिए। हालांकि, यदि सुरक्षा मानकों के बावजूद ऐसी कोई घटना होती हैं, तो एक उचित आकस्किमता योजना होनी चाहिए जिस पर तुरंत कार्य करना चाहिए। यह यह बात सभी संदेहों से पार जाकर सिद्ध हो जाए कि वेबसाइट का विकरण किया गया है, तो साइट को तुरंत ब्लॉक कर दिया जाना चाहिए। आपातकालीन योजना यह दर्शाते हुए कि ऐसी स्थिति में आगे का कार्य करने के लिए किस व्यक्ति को अधिकार दिए गए हैं, स्पष्ट रूप से दी जानी चाहिए। इस अधिकृत व्यक्ति की पूरी जानकारी वेब प्रबंधन टीम के साथ हमेशा उपलब्ध होनी चाहिए। कम से कम संभव समय में मूल साइट को बहाल करने के प्रयास किए जाने चाहिए। इसी समय, नियमित सुरक्षा समीक्षा और जांच सुरक्षा में किसी भी खामियों को दूर करने के क्रम में आयोजित किया जाना चाहिए।

डाटा नष्ट होनाः  एक उचित तंत्र सही और नियमित रूप से बैक-अप सुनिश्चित करने के लिए अपने वेब होस्टिंग सेवा प्रदाता के साथ परामर्श में संबंधित कार्य किया जाना चाहिए। ये किसी भी डाटा के नष्ट होने के मद्देनजर नागरिकों को सूचना की तेजी से रिकवरी और निर्बाध उपलब्धता में सक्षम बनाता है।

हार्डवेयर/सॉफ्टवेयर का नष्ट होनाः  हालांकि ऐसी घटना शायद ही कभी होती है, सर्वर जिससे वेबसाइट को चलाया जाता है, कुछ अप्रत्याशित कारणों से नष्ट हो जाता है, तो वेब होस्टिंग सेवा प्रदाता के पास जल्द से जल्द वेबसाइट को बहाल करने के लिए उपलब्ध पर्याप्त सही बुनियादी सुविधाएं होनी चाहिए।

प्राकृतिक आपदाएं:  कुछ ऐसी परिस्थितियां हो सकती हैं जब प्राकृतिक आपदाओं के कारण, पूरा डाटा सेंटर जहां से वेबसाइट को चलाया जा रहा है, नष्ट हो जाता है। एक सुनियोजित आपातकालीन तंत्र इस तरह की घटनाओं के लिए होना चाहिए जिससे सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि होस्टिंग सेवा प्रदाता ने भौगोलिक दृष्टि से दूरस्थ स्थान पर आपदा रिकवरी केंद्र (डीआरसी) स्थापित किया है और वेबसाइट कम से कम समय में डीआरसी पर बंद है और नेट को शुरू किया जा सके।

उपरोक्त के अलावा, किसी भी राष्ट्रीय संकट या अप्रत्याशित आपदा की स्थिति में, सरकारी वेबसाइटों को जनता के लिए सूचना का एक विश्वसनीय और तीव्र स्रोत के रूप में देखा जाता है। ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए एक बेहतर आपातकालीन योजना होनी चाहिए ताकि आपातकालीन सूचना/संपर्क हैल्प- लाइन्स बिना किसी देरी के वेबसाइट पर प्रदर्शित की जा सकें। इसके लिए ऐसी आपातकालीन सूचना के प्रकाशन के लिए उत्तरदायी विभाग में संबंधित व्यक्ति की पहचान की जानी चाहिए और पूरी संपर्क विवरण हर समय उपलब्ध होना चाहिए।